liquor-stock-haryana

लॉकडाउन के दौरान हरियाणा के सोनीपत के खरखौदा स्थित गोदाम से हजारों पेटी शराब ग़ायब होने का मामला सामने आया है। छानबीन में जुटी सोनीपत पुलिस ने शराब के स्टॉक की गणना कर ली है। लेकिन पुलिस के अधिकारी मीडिया को इसकी जानकारी देने से बचते नजर आ रहै हैं।

बताया गया है कि एक दीवार को तोड़कर पुलिस द्वारा जब्त की गई अवैध शराब को गोदाम से चोरी छिपे रात के अंधेरे में बाहर निकाला जाता था। पक्की दीवार को तोड़े जाने के बाद दोबारा से उसे ईंट और सीमेंट से बन्द किया जाता था। तोड़ी जाने वाली दीवार गोदाम के अंदर बने उस कमरे की है जिसमें पुलिस द्वारा जब्त हजारों पेटियां शराब रखी गयी थी। दीवार के बिलकुल साथ लगते हालनुमा कमरे में आबकारी विभाग द्वारा पकड़ी गई शराब को सील किया गया था। दोनों के बीच यह दीवार थी, जिसके निचले हिस्से को तोड़कर आबकारी विभाग वाले हॉल के रास्ते शराब निकाली गई।

यह भी पढ़े: शराब की बोतल पर 2 से 20 रुपये तक लगेगा कोरोना सेस

लॉक डाउन के दौरान रात के अंधेरे में शराब को यहां से ट्रकों में भरकर निकाला गया है। ऐसे में बड़ा सवाल यह भी है कि चारों तरफ नाकेबंदी के बावजूद ये ट्रक कैसे शराब लेकर निकले? क्या नाकों पर चेकिंग ही नहीं हुई या फिर पुलिस ने देखकर भी आंखें मूंद ली थी। छानबीन के दौरान अब दीवार को बन्द करवाया गया है। वहीं पुलिस के कई अधिकारी सवालों के घेरे में है।

सन्देह के दायरे में आबकारी ओर पुलिस विभाग

आपको बता दें कि आबकारी विभाग के कमरे को 2019 में सील किया गया था लेकिन पुलिस की जब्त की हुई शराब को इसी हॉल के रास्ते बाहर निकाला गया। ऐसे में आबकारी विभाग पर भी गंभीर सवाल उठ खड़े हुए हैं। साथ ही पुलिस विभाग भी संदेह के घेरे में है। वही सबसे बड़ी बात ये है कि क्या आबकारी विभाग के अधिकारियों को टूटी हुई दीवार नजर ही नहीं आयी या फिर इसे जानबूझ कर अनदेखा किया गया।

6 हजार पेटी शराब और बियर का स्टॉक कम पाया गया

दूसरी ओर, इस शराब कांड के उजागर होने के बीच लगातार चौथे दिन भी पुलिस अपने जब्त स्टॉक की बोतलें गिनती रही थी। गणना पूरी होने पर भी मीडिया को जानकारी नहीं दी गयी कि यहां कितना स्टॉक कम पाया गया है। हालांकि, सूत्र बताते हैं कि यहां पर करीब 6 हजार पेटी शराब और बियर का स्टॉक कम पाया गया है।

हालांकि मामले में खरखौदा के एसएचओ जसबीर को लाइन हाजिर कर लीपापोती के प्रयास किये गए है। लेकिन हालात देखकर कहा नहीं जा सकता कि अकेला एसएचओ इतना बड़ा खेल खेल सकता है। सम्भव है कि इस खेल में कई और बड़े खिलाड़ी शामिल रहे हों जिनको बचाने के जुगाड़ भिड़ाये जा रहे हैं।

सोमवार दोपहर को शराब के गोदाम पर पहुंचे सोनीपत के डीएसपी जितेंद्र खटखड़ ने न केवल पूरे गोदाम की वीडियोग्राफी करवाई बल्कि काफी देर तक वे सीआईए-2 इंचार्ज इंस्पेक्टर विवेक मलिक के साथ गोदाम में छानबीन भी करते रहे। हालांकि डीएसपी जितेंद्र ने इंक्वायरी का हवाला देते हुए कोई भी सटीक जानकारी देने से इनकार कर दिया।

देश दुनिया ओर हरियाणा की ताजा खबरों के लिए हमें ट्विटर पर फॉलो करें।

एक न्यूज़ चैनल की पड़ताल में एक और चौंकाने वाली जानकारी ये भी मिली है कि आबकारी विभाग के 2019 में सील किये गए स्टॉक में 2020 के मार्च महीने की बनी बीयर की बोतलें पाई गई। ऐसे में एक गंभीर सवाल यह भी खड़ा होता है कि आखिर 2019 में सील हो चुके स्टॉक में 2020 की बनी हुई बीयर की कैनें कहां से आ गईं। जो भी हो लेकिन सोनीपत के इस शराब कांड ने व्यवस्था की पोल खोलकर रख दी है और हालात को देखते हुए कहने में कोई दो-राय नहीं कि लॉकडाउन की आड़ में यहां अवैध शराब को लेकर बड़ा खेल खेला गया है जिसकी गहराई से छानबीन जरूरी है।

One thought on “लॉकडाउन की आड़ में बड़ा घोटाला, सोनीपत में ज़ब्त की गई शराब के स्टॉक से 6000 पेटी गायब”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *