कोरोनावायरस Lockdown के बिच पिछले कई दिनों से कांग्रेस हरियाणा सरकार को घेर रही है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला के आरोपों का जवाब देने के लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने शनिवार को खुद ही मोर्चा संभाला है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सुरजेवाला के विधायक कार्यकाल को लेकर घेरते हुए यहां तक कह डाला कि पांच साल में केवल सात दिन के लिए विधानसभा में आए और सरकारी खजाने से एक करोड़ 12 लाख रुपए लेने वाले आज किस आधार पर जनता को गुमराह कर रहे हैं।

यहां आपको बता दे गत दिवस हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी शैलजा व कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस वार्ता करके खट्टर कैबिनेट द्वारा बसों का किराया बढ़ाने तथा सब्जियों-फलों पर मार्केट फीस लगाने और डीजल-पेट्रोल के दामों में बढ़ोतरी पर जमकर घेरा था। उन्होंने संकट काल में सरकार पर ‘जजिया कर’ लगाने का आरोप लगाया था।

वहीं शनिवार को ‘हरियाणा आज’ कार्यक्रम के दौरान सीएम ने कहा कि दो महीनों में प्रदेश को 12 हजार करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हुआ है। जीएसटी, वैट, स्टाम्प ड्यूटी, एक्साइज सहित कहीं से भी राजस्व प्राप्तियां नहीं हो रही। सरकार ने आवश्यक खर्चे ही किए हैं।

रणदीप सुरजेवाला पर सीधा हमला बोलते हुए सीएम ने कहा, ‘सुरजेवाला हिसाब मांग रहे हैं। हम तो हिसाब दे देंगे। उन्होंने कहा कि विधायकों ने तो एक महीने की वेतन और अगले एक वर्ष के लिए 30 फीसदी वेतन कोरोना रिलीफ फंड में दी है।

उन्होंने बड़ी बात बोलते हुए कहा कि सुरजेवाला 1 लाख 68 हजार रुपये मासिक पेंशन ले रहे हैं। मुझे नहीं लगता कि उन्होंने कहीं कोई योगदान दिया होगा’।

मुख्यमंत्री खट्टर ने कहा कि विधायक रहते हुए पांच वर्षों में सुरजेवाला केवल सात दिन ही विधानसभा में आए, लेकिन उन्होंने विधानसभा से एक करोड़ 12 लाख रुपये खर्च लिया है। अब जब वे हिसाब मांग रहे हैं, तो हिसाब पूरा ही देना होगा’।

सीएम ने कहा, कोरोना से हरियाणा अच्छे से निपटा है। इसलिए पूरे देश में हरियाणा की प्रशंसा हो रही है।मुझे लगता है कि इन बातों से सुरजेवाला को जलन हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *