• किसानों को किया आश्वत, अधिकारियों को दिए दिशा-निर्देश
  • किसान निश्चिंत रहे, फसल का एक-एक दाना खरीदेगी सरकार।
  • कोरोना महामारी से प्रदेश को बचाते हुए बेहतर तरीके से खरीदेंगे किसानों की फसल
  • अधिकारी फसल खरीद प्रक्रिया में कोई कोताही न बरतें – दुष्यंत चौटाला  
रमन वधवा

उपमुख्यमंत्री हरियाणा दुष्यंत चौटाला ने कहा कि फसल खरीद में किसानों को कोई भी समस्या आड़े नहीं आने दी जाएगी। प्रदेश सरकार कोरोना महामारी से लडऩे के लिए हर चुनौतियों के लिए पूरी तरह से तैयार है। इस संकट की घड़ी में किसान व आढ़ती दोनों सरकार का सहयोग करें। उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला 15 अप्रैल से शुरु हुई सरसों फसल की खरीद का औचक निरीक्षण करने के लिए अंबाला की शहजादपुर स्थित अनाज मंडी का दौरा कर रहे थे। इस दौरान उपमुख्यमंत्री ने अधिकारियों को किसानों की फसल खरीद प्रक्रिया में किसी प्रकार की कोताही नहीं बरतने के आदेश दिए। उन्होंने मंडी में मौजूद किसानों की समस्याएं सुनते हुए उन्हें भरोसा दिलाया कि वे निश्चिंत रहे कि सरकार किसानों की फसल का एक-एक दाना खरीदेगी जिसके लिए फसल खरीद की बेहतर व्यवस्था स्थापित की गई है।  साथ ही दुष्यंत चौटाला ने अधिकिरियों से बातचीत कर आगामी गेहूं खरीद की तैयारियों का जायजा भी लिया।

डिप्टी सीएम ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि वे मंडियों में आने वाले किसानों व श्रमिकों के लिए सेनेटाइजर, मास्क, पेयजल आदि व्यवस्थाओं में काई कमी नहीं आने दें। उन्होंने कहा कि मंडी में सभी सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान जरूर रखें। उन्होंने बताया कि मौजूदा हालात व तमाम व्यवस्थाओं को समझकर उसे पूरा दुरस्त करते हुए 160 से ज्यादा मंडियों में 15 अप्रैल से सरसों फसल की खरीद शुरू करवाई गई है। उन्होंने ये भी बताया कि इस बार सरसों की खरीद के लिए 67 मंडियों से बढ़ाकर 162 मंडियां बनाई गई है। उन्होंने कहा कि सरकार ने फसल खरीद के लिए आईटी विभाग का भी पूरा प्रयोग किया है। इसके साथ-साथ इस संकट के समय में फसल खरीद के लिए अन्य विभाग के कर्मचारी भी किसानों की मदद के लिए तत्पर है। फसल खरीद पर सवाल उठाने वाले विरोधियों को जवाब देते हुए उप-मुख्यमंत्री ने कहा कि देशभर में हरियाणा एकमात्र एक ऐसा राज्य है जिसने इस महामारी में सरसों की फसल की खरीद शुरू की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने किसानों के हित में न केवल सरसों की खरीद शुरू की बल्कि सरसों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) भी लागू किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता प्रदेश सरकार की फसल खरीद प्रणाली पर बोलने से पहले ये बताएं कि उनकी पार्टी की सरकार अन्य पंजाब, राजस्थान राज्य में है, वहां अब तक सरसों की खरीद क्यूं शुरू नहीं की गई। 

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि जो लोग फसल खरीद प्रणाली पर सवाल उठा रहे वे मेरी फसल मेरा ब्यौरा योजना के तहत रजिस्ट्रेशन करें, सरकार तय समय के अनुसार बकायदा उन्हें तीन दिन पहले मोबाइल पर संदेश के माध्यम से सूचित करके उनकी फसल खरीदेगी। उन्होंने कहा कि इसी तरह बेहतर व्यवस्थाओं के साथ सरकार 20 अप्रैल से गेहूं की खरीद करने जा रही है। इसके लिए आज उन्होंने मंडियों का दौरा कर अधिकारियों से तैयारियों का जायजा भी लिया है। उपमुख्यमंत्री ने प्रदेश के किसानों को विश्वास दिलाते हुए अपील की कि वे कोरोना महामारी को समझते हुए सामाजिक दूरी की पालना करते हुए एहतियात बरतें। उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य है कि जल्द सबसे पहले हरियाणा को कोरोना मुक्त प्रदेश बनाया जाए। इसके लिए प्रदेश की जनता समेत तमाम वर्गों का पूरा सहयोग मिल रहा है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *