हरियाणा में नशा और ड्रग के धंधे में लगे बड़े मगरमच्छों को काबू करने के लिए राज्य में हरियाणा नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो का गठन किया गया है। ब्यूरो की कमान वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी श्रीकांत जाधव को सौंपी गई है। हरियााणा के गृहमंत्री अनिल विज ने कैंप आफिस में कंट्रोल ब्यूरो के चीफ श्रीकांत जाधव के साथ में बैठक कर तमाम बातों पर विचार विमर्श कर अब काम को गति देने का आदेश दिया है।

विज ने साफ कर दिया है कि ब्यूरो में फिलहाल पुलिस व क्राइम ब्रांच से स्टाफ लेंगे लेकिन बाद में ब्यूरो का अपना स्पेशल स्टाफ होगा। आपको बता दें श्रीकांत जाधव की गिनती दबंग और ईमानदार आईपीएस में होती है। गुरुवार को गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने हरियाणा नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो चीफ के साथ में बैठक की।

ब्यूरो का आफिस कहां पर स्थापित करना उचित होगा और इसके लिए कहां पर भवन उपलब्ध है। इन तमाम बिंदुओं पर विज ने जाधव के साथ विचार मंथन किया, होमवर्क कर इसे अंतिम रुप देने के लिए कहा गया है।

विज ने बैठक में साफ कर दिया है कि हरियाणा में नशे के जड़ से ख़ात्मे के लिए हम संकल्पबद्ध हैं। मनोहर सरकार पार्ट टू बनते ही विज ने इसके गठन का एलान किया था। जिसको पूरा करते हुए हरियाणा स्टेट नारकोटिक्स कन्ट्रोल ब्यूरो का गठन गया कर दिया गया है। गृह विभाग की कमान हाथ में आने के बाद विज कहते हैं कि हमने नशाखोरी और नशा तस्करी को समाप्त करने की ठान ली थी।

ब्यूरो के लिए 325 पदों को मिली हरी झंडी

हरियाणा नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के लिए लगभग 325 पदों को स्वीकृत भी कर दिया गया है। अर्थात इसके लिए अलग से स्टाफ होगा, जो पूरी तरह से प्रशिक्षित होगा ताकि बड़े बड़े तस्करों पर हमेशा हमेशा के लिए लगाम लगाई जा सके। गृहमंत्री अनिल विज ने कहा कि हमारा प्रयास है कि यह पूरे देश में सबसे बेहतर काम करके दिखाए। इसके लिए हमने अलग से भर्ती करने औऱ पदों की स्वीकृति दी है। इतना नहीं हम दुनियाभर के देशों में अध्ययन के बाद में यहां पर सबसे बेहतरीन और विश्वस्तरीय उपकरण लगाएंगे ताकि ड्रग तस्करो औऱ नशा सप्लाई करने वाले बड़े माफियाओं को अंदर भेजा जा सके।

Join us on WhatsApp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *