राजस्थान के रास्ते जिले के अंतिम छोर गांव दनचौली-रामबास से जिला महेंद्रगढ़ में प्रवेश करने वाला करीब 10 किलोमीटर लंबाई, 6 किलोमीटर चौड़ाई में फैला टिड्डी दल 7 घंटे तक निजामपुर, नारनौल व सीहमा खंड में खेतों पर मंडराता रहा। इसके चलते दिनभर किसानों की सांसें अटकी रही ओर साथ प्रशासन के हाथ पैर फुले रहे। वहीं कई गांवों में फसलों को भारी नुकसान हुआ है।

किसानों का दावा 30% फसलों को हुआ नुकसान

किसान टिड्डी दल से अपनी फसलों को बचाने के लिए दिनभर लोहे के पीपे, परात व थाली, बाजे ओर हाथों में लेकर उन्हें पीट-पीटकर बजाते हुए फसलों पर बैठी टिड्डी को भगाने के लिए उनके पीछे भागते रहे। यह सब 6-7 घँटों तक चला। किसानों का कहना है कि नारनौल के कई गांवों में 25 से 30 फीसदी तक नुकसान हुआ है।

हालांकि टिड्डी दल शाम तक जिले की सीमा से बाहर निकल गया था। लेकिन जाते जाते भी टिड्डी दल जिले के किसानों की सैकड़ों एकड़ बाजरे, कपास व ग्वार की फसलों को भारी नुकसान पहुंचा गया। पीड़ित किसान नुकसान दिखाते हुए सरकार से मुआवजे की मांग कर रहे हैं।

अधिकारियों का दावा नहीं हुआ नुकसान

वहीं जिले के कृषि विभाग के अधिकारियों की मानें तो टिड्डी दल जिले में कहीं बैठ नहीं पाया। उनका कहना है की प्रशासन की सजगता के चलते हम टिड्डी दल को समय रहते भगाने में सफल रहे। उनका कहना है की जिले में टिड्डी दल से फसलों को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है। हालांकि सच्चाई सबके सामने है। अब जिला अधिकारी किस वजह से नुकसान को अनदेखा कर रहे है वह समझ से पर है।

वहीं कृषि मंत्री ने जिला प्रशासन से नुकसान का आंकलन कराने के आदेश दिए हैं। फिलहाल प्रदेश में 7.25 लाख हेक्टेयर में कपास और करीब दो लाख हेक्टेयर में बाजरा की फसल है। कुल मिलाकर प्रदेश में 12 लाख हेक्टेयर में फसलें हैं। इन पर टिड्‌डी दल का खतरा बना है।

शनिवार रात को एक टिड्डी दल का पलवल में ठहराव

टिड्‌डी दल का एक बड़ा ग्रुप दिल्ली में एयरपोर्ट, जनकपुरी, नोयडा में है, जबकि एक छोटा ग्रुप पलवल में होडल से सौंध रोड पर है, यहां अनाज मंडी के पीछे भी इसे देखा गया है। अब तक यह हरियाणा के महेंद्रगढ़, रेवाड़ी, झज्जर, मेवात, पलवल, गुड़गांव में घूम चुका है।

इधर, कृषि विभाग के एडिशनल डायरेक्टर डॉ. सुरेंद्र सिंह दहिया ने बताया कि यह टिड्‌डी आठ से 10 करोड़ की संख्या में है। इतने बड़े स्तर पर 30 साल पहले हमला हुआ था। अब यह दूसरी बार आया है।

अधिकारियों का दावा 15 फायरब्रिगेड, 64 पंप किया स्प्रे

कृषि विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव संजीव कौशल ने बताया कि टिड्‌डी दल शुक्रवार सुबह नारनौल व शाम करीब 5 बजे रेवाड़ी पहुंचा। खोल ब्लॉक के बाद रात 8 बजे तक जाटूसाना ब्लॉक में पहुंचा। रात के समय पेड़ों पर ठहराव किया। 64 स्प्रे मशीन मांउटेड ट्रैक्टर, 15 फायर ब्रिगेड की गाड़ियों समेत सौंधी में 9 दमकलों से 3000 लीटर दवाई का स्प्रे किया गया। लेकिन असल सच्चाई स्थानीय किसान ही बता सकता है। जिसके दावे को अधिकारी नकार रहे है।

विशेष गिरदावरी कराए सरकार : हुड्‌डा

वहीं पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने टिड्डी दल का हमला रोकने में सरकार को पूरी तरह नाकाम बताया है। उन्होंने कहा कि 6 महीने पहले से जानकारी होने के बावजूद सरकार ने कोई तैयारी क्यों नहीं की। खुद कुछ करने की बजाय सरकार ने किसानों से ताली-थाली बजाने की अपील कर दी।

टिड्डी दल ने राजस्थान होते हुए महेंद्रगढ़, रेवाड़ी, गुड़गांव, मेवात और फरीदाबाद की तरफ काफी नुकसान पहुंचाया। बाजरा, कपास, सौंठ और दूसरी फसलों को तबाह कर दिया। उन्होंने नुकसान की स्पेशल गिरदावरी करवाकर मुआवजे की मांग की है। इधर, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमार सैलजा ने कहा कि किसानों की बिना देरी किए मुआवजा दिया जाए।

Join us on Facebook

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *