शनिवार को सीएम मनोहर लाल खट्टर की अध्यक्षता में हुई बैठक में फैसला लिया गया है कि गुड़गांव और फरीदाबाद में शॉपिंग मॉल और धार्मिक स्थल नहीं खोले जाएंगे। बैठक चंडीगढ़ स्थित सीएम मनोहर लाल खट्टर के आवास पर हुई, जिसमें डिप्टी सीएम और गृह मंत्री अनिल विज भी शामिल हुए।

बैठक खत्म होने के बाद डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने बताया कि गुड़गांव और फरीदाबाद में फिलहाल धार्मिक स्थल और शॉपिंग मॉल नहीं खोले जाएंगे। बैठक तीन मुद्दों को लेकर चर्चा हुई। गुड़गांव और फरीदाबाद को छोड़कर बाकि पूरे प्रदेश में धार्मिक स्थल खुलेंगे। मंदिर, मस्जिद और चर्च में सोशल डिस्टेंसिंग बनाकर रखनी होगी। कोई जागरण, नमाज और संडे को चर्च में इकट्ठा होने पर रोक रहेगी। आज से ये आदेश लागू हो जाएंगे। बता दे गुड़गांव और फरीदाबाद कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित है।

धार्मिक स्थलों के लिए गाइडलाइन

  • सभी को एक-दूसरे से कम से कम छह फीट की दूरी बनाए रखना होगा।
  • धार्मिक स्थल में प्रवेश द्वार पर हाथों को सैनिटाइज करने की व्यवस्था होनी चाहिए।
  • मंदिर-मस्जिद सहित सभी धार्मिक स्थानों पर श्रद्धालुओं की थर्मल स्क्रीनिंग जरूरी है।
  • बिना लक्षण वाले श्रद्धालु को ही धार्मिक स्थल में प्रवेश दिया जाए।
  • फेस मास्क पहने लोगों को ही प्रवेश दिया जाएगा।
  • कोविड-19 से जुड़ी जानकारी वाले पोस्टर, बैनर धार्मिक स्थल परिसर में लगाने होंगे। वीडियो भी चलाना होगा।
  • जूते, चप्पल श्रद्धालुओं को खुद की गाड़ी में उतारने होंगे।
  • अगर ऐसी व्यवस्था नहीं है तो परिसर से दूर खुद की निगरानी में रखना होगा।

रेस्टोरेंट के लिए गाइडलाइन

  • कंटेनमेंट जोन में रेस्टोरेंट बंद रहेंगे। इसके बाहर खोले जा सकते हैं।
  • रेस्टोरेंट में आकर खाना खाने की बजाय होम डिलीवरी को बढ़ावा दिया जाए।
  • डिलीवरी करने वाले घर के दरवाजे पर ही पैकेट छोड़ दें, हैंडओवर न करें।
  • होम डिलीवर पर जाने से पहले सभी कर्मचारियों की स्क्रीनिंग की जाए।
  • रेस्टोरेंट के गेट पर हैंड सैनिटाइजेशन और थर्मल स्क्रीनिंग के इंतजाम होने चाहिए।
  • केवल बिना लक्षण वाले स्टाफ और ग्राहकों को ही रेस्टोरेंट में प्रवेश दिया जाए।
  • कर्मचारियों को मास्क लगाने या फेस कवर करने पर ही अंदर एंट्री दी जाए और वे पूरे समय इसे पहने रहें।
  • कोरोना की रोकथाम से जुड़े पोस्टर और विज्ञापन प्रमुखा से लगाने होंगे।
  • रेस्टोरेंट में सोशल  डिस्टेंसिंग को ध्यान रखते हुए स्टाफ को बुलाया जाए।
  • हाई रिस्क वाले कर्मचारियों को लेकर विशेष एहतियात बरती जाए।
  • रेस्टोरेंट परिसर, शॉपिंग मॉल पार्किंग और आसपास के इलाके में सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा जाए।
  • ग्राहकों की संख्या अधिक होने पर उन्हें वेटिंग एरिया में बैठाया जाए।
  • वॉलेट पार्किंग में ड्यूटी करने वाले स्टाफ को मास्क, हैंड गलब्स पहनना जरूरी होगा।
  • पार्किंग के बाद कार की स्टेयरिंग, गेट के हैंडल को सैनिटाइज करना होगा।
  • रेस्टोरेंट परिसर में सोशल डिसस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए फ्लोर पर मार्किंग करनी पड़ेगी।
  • ग्राहकों के आने और जाने के लिए अलग-अलग गेट होने चाहिए।
  • टेबलों के बीच भी उचित दूरी जरूरी है।
  • रेस्टोरेंट में 50% सिटिंग कैपिसिटी से ज्यादा लोग एक साथ बैठकर खाना नहीं खा पाएंगे।
  • रेस्टोरेंट खाना खिलाने के लिए डोस्पोजेबल का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • हाथ धोने के लिए तैलिया की जगह अच्छी क्वालिटी के नैपकिन का इस्तेमाल किया जाए।
  • ग्राहकों और रेस्टोरेंट को बफेट सर्विस के दौरान भी सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना होगा।
  • एलेवेटर्स में एक साथ ज्यादा लोगों के जाने पर पाबंदी होगी।

दफ्तरों के लिए गाइडलाइन

  • दफ्तरों के एंट्री गेट पर सैनिटाइजर डिस्पेंसर का होना जरूरी है। यहीं पर थर्मल स्क्रीनिंग भी की जाए।
  • केवल उन्हीं लोगों को दफ्तर में आने की अनुमति दी जाए, जिनमें कोरोनावायरस के लक्षण ना दिखाई दें।
  • कंटेनमेंट जोन में रहने वाले स्टाफ को अपने सुपरवाइजर को इस बात की जानकारी देनी होगी।
  • उसे तब तक दफ्तर आने की इजाजत ना दी जाए जब तक कंटेनमेंट जोन को डिनोटिफाई ना कर दिया जाए।
  • ड्राइवरों को सोशल डिस्टेंसिंग और कोरोना के संबंध में जारी नियमों का पालन करना होगा।
  • दफ्तर के अधिकारी, ट्रांसपोर्ट सेवा देने वाले यह निश्चित करेंगे कि कंटेनमेंट जोन में रहने वाले ड्राइवर गाड़ियां ना चलाएं।
  • गाड़ी के भीतर, उसके दरवाजों, स्टीयरिंग, चाभियों का पूरी तरह से डिसइन्फेक्ट होना जरूरी है। इसका ध्यान रखा जाए।
  • गर्भवती महिलाएं, उम्रदराज कर्मचारी, पहले से बीमारियों का सामना कर रहे कर्मचारी अतिरिक्त ध्यान रखें।
  • दफ्तरों में केवल उन्हीं लोगों को आने की इजाजत दी जाए, जिन्होंने फेस मास्क पहना हो।
  • दफ्तर के भीतर भी पूरे समय फेस मास्क पहनना जरूरी है।
  • दफ्तर में विजिटर्स की आम एंट्री, टेम्परेरी पास कैंसिल किए जाए।
  • बैठकों को जहां तक संभव हो सके, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ही किया जाए।
  • दफ्तरों में कोरोनावायरस संक्रमण से बचाव के पोस्टर, होर्डिंग जगह-जगह पर लगाए जाएं।

Join us on Facebook

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *