कोरोना वायरस के चलते हरियाणा सरकार ने सभी प्राइवेट स्कूलों को अभी केवल ट्यूशन फीस लेने के निर्देश दिए हैं। स्कूल शिक्षा निदेशालय की ओर से प्रदेश के सभी जिला शिक्षा अधिकारी व जिला मौलिक शिक्षा अधिकारियों को निर्देश जारी कर कहा गया हैं कि वे विभाग द्वारा जारी दिशा-निर्देशों की अपने क्षेत्राधिकार के अंतर्गत आने वाले निजी स्कूलों में अनुपालना सुनिश्चित करें।

क्या कहा गया है आदेश में

शिक्षा निदेशालय द्वारा जारी निर्देशों में स्पष्ट किया गया है कि निजी स्कूल मासिक आधार पर केवल ट्यूशन फीस ही लें। अन्य प्रकार के फंड जैसे बिल्डिंग फंड, रख-रखाव फंड, प्रवेश शुल्क, कंप्यूटर शुल्क आदि कोविड-19 की असामान्य स्थिति के कारण स्थगित कर दिए जाएं।

अभिभावक किश्तों में दे सकते है फ़ीस

अगर कोई अभिभावक अप्रैल तथा मई 2020 माह की ट्यूशन फीस स्थगित करने का अनुरोध करता है तो स्कूल प्रबंधक/प्रधानाचार्य द्वारा लॉकडाउन के मद्देनजर इस अनुरोध को स्वीकार कर लिया जाए। हालांकि बाद में,यह दो माह की ट्यूशन फीस आगामी तीन महीनों में बराबर किश्तों के आधार पर जमा करवा ली जाए।

साथ सभी निजी स्कूलों को ट्यूशन फीस में वृद्धि न करने लॉकडाउन की अवधि का यातायात शुल्क न वसूलने, स्कूल यूनिफार्म व पाठ्य-पुस्तकों में बदलाव न करने के भी निर्देश दिए गए हैं।

बड़ा सवाल – क्या मानेंगे स्कूल?

आपको बता दें हरियाणा सरकार की ओर से आदेश पहले भी जारी हुए थे लेकिन स्कूलों ने इन आदेशों की जमकर धज्जियां उड़ाई है। ट्यूशन फीस भी बढ़कर ली जा रही है। प्रदेश भर में अभिभावक परेशान है लेकिन सुनने वाला कोई नहीं।

हरियाणा की ऐसी ही ताजा खबरों के लिए जुड़िए हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से।

One thought on “हरियाणा सरकार का आदेश, प्राइवेट स्कूल सिर्फ ट्यूशन फीस लें, दूसरे फंड न वसूलें”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *