दो दिन चली वीडियो कान्फ्रेंस में अफसशाही की मनमर्जी को लेकर विधायकों की ओर से दी गई शिकायतों पर कार्यवाही शुरू हो गई है। सरकार और हरियाणा विधानसभा ने अफसरों पर कार्यवाही शुरू कर दिए हैं। जहां सरकार की ओर से सभी सांसदों और विधायकों के फोन उठाने के आदेश जारी कर दिए हैं, वहीं विधानसभा स्पीकर की ओर से दो अफसरों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। जबकि एक एचसीएस स्तर के अफसर की शिकायत मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा को भेज दी है।

जानिए किस विधायक ने क्या दी शिकायत

  • रेवाड़ी जिले के कोसली विधानसभा सीट से विधायक लक्ष्मण यादव ने रेवाड़ी एसपी नाजनीन भसीन की शिकायत की है। उन्होंने कहा कि एसपी फोन नहीं उठाती हैं। पुलिस के अन्य अधिकारी भी फोन नहीं उठा रहे। इसलिए एसपी का यहां से तबादला किया जाए।
  • असंध से कांग्रेस विधायक शमेशर सिंह गोगी ने अपनी शिकायत में कहा  कि कोरोना की वजह से लॉकडाउन है। एसडीएम अनुराग डालिया ने फ्लैगमार्च के दौरान अपने बच्चों को गाड़ी में बैठाकर घुमाया। बच्चे पूरे देश के एक जैसे हैं। इन्होंने धारा-188 की उल्लंघना की है। पत्र की एक कॉपी मुख्य सचिव को भी भेजी थी।
  • इसे भी पढ़े: अनिल विज की अधिकारियों को चेतावनी- नौकरी करनी है तो विधायकों की सुननी पड़ेंगी
  • सोनीपत से कांग्रेस विधायक सुरेंद्र पंवार ने नगर निगम जॉइंट कमिश्नर के शंभू राठी के खिलाफ शिकायत दी है। उन्होंने कहा कि जॉइंट कमिश्नर को कई बार फोन किया गया, लेकिन वे फोन रिसीव नहीं करते हैं। 

अधिकारियों के लिए ये आदेश जारी

आदेश में कहा कि अफसरों द्वारा सांसदों व विधायकों को फोन उठाया जाए। साथ ही उनका पूरा मान-सम्मान किया जाए। यदि किसी बैठक में हैं या किसी अन्य कारण से फोन नहीं उठा रहें हैं तो उन्हें एसएमएस (SMS) कर इसकी जानकारी दी है। बाद में फ्री होने पर जितना जल्द हो सके उन्हें कॉल की जाए। दो घंटे के अंदर जनप्रतिनिधियों की कॉल का जवाब अवश्य देना है। उनका नंबर नहीं मिल रहा है तो भी एसएमएस किया जाए। अफसरों के मोबाइल पर सांसद-विधायकों के मोबाइल नंबर सेव होने चाहिए। आपको बता दे आदेश सरकार के पॉलिटिकल एंड पॉर्लियामेंट अफेयर्स डिपार्टमेंट की ओर से जारी किए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *