हरियाणा सरकार ने सरसों व गेहूँ की फसल खरीदने के लिए कमर कस ली है। 15 अप्रैल से शुरू हो रही सरसों व 20 अप्रैल से शुरू होने वाली गेहूं की खरीद के दौरान किसानों को मंडियों में किसी भी प्रकार की परेशानीन ना हो इसके लिए विभाग के अधिकारियों ने मंडियों में खरीद के व्यापक प्रबंध किए हैं। गेहूं के लिए किसान ‘मेरी फसल-मेरा ब्योरा’ पोर्टल पर 19 अप्रैल तक पंजीकरण करवा सकते हैं।

पोर्टल मंगलवार सायं 5 बजे से पुन: खोल दिया गया। उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने मंगलवार को खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग के खरीद प्रबंधों की समीक्षा की। बैठक में कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जयप्रकाश दलाल व आढ़ती एसोसिएशन के पदाधिकारी वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से शामिल हुए। सरसों की खरीद के लिए 140 मंडियां, जबकि गेहूं की खरीद के लिए लगभग दो हजार मंडी, उप-मंडी व खरीद केंद्र निर्धारित किए गए हैं।

उन्होंने बताया कि किसानों को बारदानेे की कमी नहीं रहने दी जाएगी। इस बार प्रतिदिन 1.5 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदने का प्रस्ताव है। किसानों को सरसों व गेहूं की खरीद के लिए पोर्टल के आधार पर दी गई जानकारी के अनुसार कूपन दिए जाएंगे ताकि मंडियों में किसान एक साथ उपज लेकर किसान न आएं।

निर्धारित तिथि के अनुसार ही गांवों के किसान क्रमवार अपनी उपज मंडियों में लेकर आएंगे। जिन किसानों ने पोर्टल पर पंजीकरण करवाया है, उनकी उपज की खरीद प्राथमिकता आधार पर की जाएगी। अब तक लगभग 60 प्रतिशत किसानों ने गेहूं की फसल का पंजीकरण करवाया है जबकि 40 प्रतिशत किसानों ने अब तक पंजीकरण नहीं करवाया है उनसे अपील की गई है कि वो पंजीकरण जल्द करवा लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *