हरियाणा के युवाओं को निजी क्षेत्र की नौकरियों में 75 फीसदी आरक्षण देने का रास्ता साफ हो गया है। कोरोना महामारी के चलते कर्मचारियों की कमी ने हरियाणा के युवाओं की राह और आसान कर दी है। हरियाणा मंत्रिमंडल की आज होने वाली बैठक में निजी क्षेत्र में युवाओं को नौकरियों में 75 फीसदी आरक्षण देने के प्रस्ताव पर मुहर लगना तय है। पहले चरण में करीब 2.5 लाख युवाओं को रोजगार मिलेगा। इसको लेकर सभी जरूरी कागजी कार्यवाही लगभग पूरी कर ली गई है। उम्मीद की जा रही है बरोदा उपचुनाव को देखते हुए सरकार कभी भी इसकी घोषणा कर सकती है।

हरियाणा मंत्रिमंडल की आज लगेगी राज्य सरकार के प्रस्ताव पर मुहर

विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा के सहयोगी दल जजपा ने निजी क्षेत्र में हरियाणा के युवाओं को 75 फीसदी आरक्षण दिलाने का वादा किया था। भाजपा का भी मिलता जुलता वादा था। इस वादे को पूरा करने में जजपा के दुष्यंत चौटाला ने काफी मशक्कत की है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल भी चाहते थे कि हरियाणा के युवाओं को 90 फीसदी तक रोजगार मिलने चाहिए। इसके लिए मनोहर लाल और दुष्यंत चौटाला ने अधिकारियों के जरिये उद्यमियों का भरोसा जीतने में बड़ी कामयाबी हासिल की है।

बता दें कोरोना महामारी के चलते हरियाणा से करीब साढ़े चार लाख लोग अपने राज्यों में लौटे हैं। उनके वापस आने का सिलसिला हालांकि शुरू हुआ है, लेकिन कुछ ही प्रतिशत लोग आ रहे है। लिहाजा हरियाणा की इंडस्ट्री में कुशल और अकुशल कर्मचारियों की मांग बढ़ गई, जिसका फायदा हरियाणा के युवाओं को मिलने वाला है।

निजी क्षेत्र में युवाओं को 75 फीसदी रोजगार मुख्य बिंदु

  • आरक्षण केवल 50 हजार से कम तनख्वाह वाले पदों पर ही लागू।
  • हरियाणा के मूल निवासी को ही योजना का लाभ मिलेगा।
  • उद्योग एवं वाणिज्य विभाग के उपनिदेशक स्तर के अधिकारी मानीटरिंग करेंगे।
  • ईंट-भट्ठों पर यह नियम लागू नहीं होगा।
  • आइटीआइ से निकले युवाओं को रोजगार में प्राथमिकता मिलेगी।
  • हरियाणा में फिलहाल करीब 60 हजार रजिस्टडर्ड प्राइवेट इंडस्ट्रीज है।
  • कर्मचारी चयन आयोग से कुशल कर्मचारियों के बारे में जानकारी हासिल की जाएगी।
  • हरियाणा के लोगों को रोजगार मिलने में प्राथमिकता से इंडस्ट्री और यहां के युवाओं का खर्चा कम होगा।

Join us on WhatsApp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *