Modi-govt

क्या POK में मोदी सरकार कुछ बड़ा करने वाली है? क्या है मोदी सरकार की POK को लेकर नई योजना? यही सवाल लगातार अपने जवाब कई सालों से ढूढ रहे हैं। लेकिन IMD के इस कदम से बॉर्डर पार की राजनीति गरमाने वाली है। दरअसल देश में मौसम का पूर्वानुमान बताने वाली संस्था भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने जम्मू और कश्मीर के अपने मौसम संबंधी उप-मंडल का उल्लेख ‘जम्मू और कश्मीर, लद्दाख, गिलगित-बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद’ के रूप में करना शुरू कर दिया है। यहां आपको बता दें कि मुजफ्फराबाद और गिलगित-बाल्टिस्तान पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) के अंतर्गत आते हैं।

सूची में बदलाव मंगलवार से आईएमडी द्वारा जारी उत्तर पश्चिमी भारत के दैनिक पूर्वानुमान में दिखाई देना शुरू हो गया है। दैनिक क्षेत्र-वार पूर्वानुमान पूरे उप-मंडल के लिए हैं न कि किसी विशिष्ट क्षेत्र के लिए। आईएमडी के वरिष्ठ अधिकारियों ने नाम में परिवर्तन की पुष्टि की है। देश में इस समय 36 मौसम संबंधी उप-मंडल हैं। इन्हें राज्य की सीमाओं के साथ परिभाषित किया गया है।

जानिए राहुल गांधी को क्यों कहा जा रहा है पाकिस्तान प्रेमी

आईएमडी का कदम न केवल एक अलग केंद्र शासित प्रदेश के रूप में लद्दाख की बदली हुई स्थिति को दर्शाता है बल्कि एक महत्वपूर्ण अंतर्निहित संदेश भी देता है। ऐसा तब हुआ है जब कुछ दिनों पहले ही पाकिस्तान के उच्चतम न्यायालय ने संघीय सरकार को गिलगित-बाल्टिस्तान में चुनाव कराने की अनुमति दी है।

आपको बता दें 30 अप्रैल को पाकिस्तान की शीर्ष अदालत ने सरकार के आवेदन पर सुनवाई करते हुए गिलगित-बाल्टिस्तान में कार्यवाहक सरकार बनाने और प्रांतीय विधानसभा चुनाव कराने की अनुमति दी थी। वहीं सोमवार को भारत के विदेश मंत्रालय ने इस फैसले के खिलाफ अपना कड़ा विरोध जताते हुए कहा था कि पाकिस्तानी संस्थान के पास अवैध रूप से या जबरन कब्जे वाले क्षेत्रों में हस्तक्षेप का अधिकार नहीं है।

वहीं IMD के इस क़दम से राजनीति फिर गरमाने वाली है। अब देखना होगा पाकिस्तान इस पर क्या प्रतिक्रिया देता है।

इसी तरह की खबरों के लिए जुड़िए हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *