सिंडिकेट बैंक मैनेजर ने रिटायरमेंट से पहले ग्राहकों को लगाया लाखों रुपए का चूना

एक बैंक मैनेजर द्वारा ग्राहकों को लाखों रुपये का चुना लगाने का मामला सामने आया है। सिंडिकेट बैंक की नारायणगढ़ शाखा के पूर्व मैनेजर महेश गंभीर ने 1 साल में कई ग्राहकों को इमोशनल ब्लैकमेल कर उनसे लाखों रुपए हड़प लिए। मैनेजर 31 मार्च को बैंक से रिटायर्ड भी हो गया। हालांकि रिटायर्ड होने से पहले वह लोगों को पैसे वापस करने का भरोसा दिलाता रहा, लेकिन रिटायर होने के बाद आंख दिखाने लग गया।

जिन लोगों से मैनेजर ने पैसे लिए हैं, उन सभी ने या तो बैंक से लोन करवाया था या उनकी बैंक में कोई लिमिट थी। अब मैनेजर पैसे मांगने वालों को सुसाइड करने की धमकियां दे रहा है। परेशान ग्राहकों ने पुलिस को शिकायत दी है। जांच अधिकारी कमलजीत ने आला अधिकारियों से पूर्व मैनेजर के खिलाफ केस दर्ज करने की सिफारिश की है।

पहला मामला

गांव जौली के मांगे राम ने पुलिस को बताया कि जुलाई 2019 में उसने मकान बनाने के लिए सिंडिकेट बैंक से 20 लाख का लोन लिया था। मैनेजर महेश ने उसकी कृषि योग्य जमीन पर 20 लाख का लोन देने की बात कही थी। लेकिन इसकी एवज में उसने 5 लाख रुपए उधार मांगे। मैनेजर ने इस पैसे से अपने बेटे को कारोबार करवाने का हवाला दिया था। मांगे राम ने 2 बार में 5 लाख रुपए महेश गंभीर को दे दिए। इसके बाद उसका 12 लाख का लोन मंजूर हुआ। जब मांगे राम ने अपने 5 लाख रुपए वापस मांगे तो रिटायरमेंट पर देने का वादा किया, लेकिन नहीं दिए।

दूसरा मामला

गांव अंबली के रणदीप सिंह की 15 लाख की 2 लिमिट सिंडिकेट बैंक में हैं। मैनेजर महेश गंभीर ने उसको बिना बताए ही खाते से 12 लाख रुपए निकाल लिए। जब रणदीप को पता चला तो वह बैंक पहुंचा और पूछताछ की। मैनेजर ने रणदीप को बताया कि उससे यह गलत काम हो गया है, जिस कारण उसकी नौकरी जा सकती है। यह पैसे उसने कानूनी प्रक्रिया से बचने के लिए निकाले थे। जल्द ही वह उसके पैसे वापस कर दिए जाएंगे।

तीसरा मामला

गांव हुसैनी के धर्म पाल ने सिंडिकेट बैंक से मई 2019 में मकान बनाने के लिए 15 लाख का लोन लिया था। मैनेजर ने धर्म पाल को अपने बेटे की बीमारी की दुहाई दी और 4 लाख रुपए उधार मांगे। मैनेजर ने कहा कि वह जल्द ही उसके पैसे वापस कर देगा। धर्मपाल मैनेजर की बातों में आ गया अाैर उसे 3.80 लाख दे दिए। धर्मपाल ने कई बार पैसे मांगे तो मैनेजर ने रिटायरमेंट पर वापस करने की बात कही।

चौथा और पांचवा मामला

पूर्व मैनेजर महेश गंभीर गांव अंबली के ही प्रणब विश्वास और गांव गनौली के अशोक को भी चूना लगा गया है। मैनेजर ने विश्वास से 1 लाख और अशोक से 4.10 लाख रुपए हड़प लिए। यह दोनों भी मैनेजर से पैसे मांग-मांग कर परेशान हो गए हैं। अब पूर्व मैनेजर ने फोन रिसीव करना ही बंद कर दिया है।