उत्तरप्रदेश का इस समय का मोस्ट वांटेड हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे हरियाणा के फरीदाबाद में नेशनल हाईवे के पास एक होटल में रुका हुआ था। उसके साथ दो और साथी ठहरे थे। विकास फरीदाबाद में रहने वाले अपने एक परिचित की मदद से दिल्ली की कोर्ट में समर्पण करने की तैयारी में था। एसटीएफ और हरियाणा पुलिस को मंगलवार शाम इस बारे में भनक लगी लेकिन इन टीमों के पहुंचने से पहले एक बार फिर विकास दुबे वहां से फरार हो गया।

कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद है फ़रार

कानपुर के बिकरू में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर भागे विकास दुबे पर ढाई लाख रुपये इनाम घोषित किया जा चुका है। साथ ही उसे पकड़ने के लिए एसटीएफ और पुलिस की दर्जनों टीमें पांच दिन से लखनऊ, दिल्ली, राजस्थान और नेपाल सीमा पर छापेमारी कर रही थीं। फरीदाबाद के इस होटल में जब पुलिस अधिकारी पहुंचे तो होटल मैनेजर से पूछताछ करने के अलावा कुछ नहीं कर सके। यहां पता चला कि वह एक दिन पहले ही इस ओयो होटल श्री सासाराम में आया था।

फरीदाबाद के व्यक्ति ने बुक कराया था होटल

होटल के रजिस्टर से पता चला कि विकास और उसके दो साथियों के लिए एक कमरा फरीदाबाद की भारत कालोनी में रहने वाले एक परिचित ने बुक कराया था। उसने ही ऑन लाइन बुकिंग करा कर अपने क्रेडिट कार्ड से भुगतान किया था। पुलिस इस मददगार की तलाश कर रही है। वहीं रजिस्टर में दीपक दुबे का गलत नाम व पता नोट कराया गया था। परिचय पत्र भी फर्जी लगा हुआ था। फरीदाबाद कार्यालय के मुताबिक फरीदाबाद पुलिस ने रजिस्टर अपने कब्जे में ले लिया है।

होटल की CCTV फुटेज में दिखा विकास दुबे, 2 साथी गिरफ्तार

पुलिस अफसरों के मुताबिक बड़खल चौक के पास श्री सासाराम होटल है। इसमें विकास के रुकने की सूचना पर पुलिस पहले उसके मददगार को लेने भारत कालोनी पहुंची। यहां उसने दो लोगों को हिरासत में लिया और उन्हें लेकर होटल पहुंच कर घेरा बंदी की। लेकिन, पुलिस के पहुंचने से पहले वह फरार हो चुका था। सीसी फुटेज में वह बाहर खड़ा दिखायी पड़ा। रिसेप्शन के पास की भी फुटेज मिली है। इसमें नीली टीशर्ट पहने वह खड़ा हुआ है। उसके पास एक काला बैग भी था। बाल उसने काफी छोटे करा रखे हैं। एसटीएफ की एक टीम भी देर रात के लिए वहां रवाना हो गई थी।

यूपी पुलिस इस मामले में हरियाणा पुलिस के संपर्क में है और हरियाणा में तलाशी अभियान तेज कर दिया गया है। इसके साथ ही यूपी एसटीएफ टीम की निगाहें मध्य प्रदेश और राजस्थान पर भी टिकी हैं।

Join us on Facebook

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *